Poetry and Snippets

1. A controlling thought controlling a thought? 2. Light and Dark? 3. Continuity is an illusion like nodes make a song? Granularity decides continuity, then what decides granularity? 4. Everything is so temporary, another day I was happy for paper submissions and today sad for uncertainty in its proceedings. 5. Now I understand why sir … Continue reading Poetry and Snippets

Advertisements

Procastination- My Transformation

It's high time I write about it. Here are some feelings, what I feel when I do the things at the last time: The piece of work that  I just finished at last time is not my masterpiece.  It could have been much better if I had more time. Result: Suboptimal Guilt, why I didn't … Continue reading Procastination- My Transformation

What I learn from others..

Rupam: I have more experiences because I listen. And I listen without judging others. Didi: There is only one life, don't live it pathetically. Ayesha: Cutting someone in between while talking is a great insult.Just a small talk at Shubhadra'room: Reading books have their own pleasure and talking with people around you and laughing over … Continue reading What I learn from others..

Artificial Intelligence

Causality: मतलब कुछ कॉज करे कुछ और। मतलब मैंने आपको चाँटा मारा आपको दर्द हुआ, मैंने चाँटा पहले मारा,दर्द बाद में हुआ। one thing precedes another. लेकिन क्या होता है तब जब आप एग्जाम के लिए पहले पढ़ते है, exams happen after study, not before. but you say I am reading because of an exam, … Continue reading Artificial Intelligence

महाभारत

महाभारत का युद्ध १८ दिन चला था। और उन १८ दिनों में १०० कौरव मारे गए और सिर्फ ५ पांडव जीते क्यूँ क्यूँकि कृष्ण थे उनके साथ। सिर्फ एक लाइन में पूरे ज़िन्दगी डिफाइन हो गयी। ये ज़िन्दगी महाभारत है और कौरव हमारे सेंसेस , हमारी इच्छाएं , लालसाये और काम क्रोध और अहंकार डर … Continue reading महाभारत

ज़िन्दगी का २५वां साल।

ज़िन्दगी का २५वां साल। हाँ भाई मैं २४ साल की हो गई हूँ अब। हर इंसान उम्र में बढ़ता है जन्मदिन मनाता है, पार्टी करता है, मैंने भी की अपने लास्ट बर्थडे में, सोचा बस अब बड़े होने का वक्त आ गया। एकदम मन उमंग में था मनो ज़ोन्दगी के २५वे साल में ना होली … Continue reading ज़िन्दगी का २५वां साल।

रात

कहते है रात अँधेरी होती है डरावनी भी होती है और कभी कभी बहुत याद भरी। क्यों कभी हम खुद से हरने लगते है उस रात में क्यों कभी हम शून्य मे हो जाते है उस रात में हमारी जिंदगी जंग है याद आता है सिर्फ रात में। ख़ामोशी भरी रात अचानक बात करने लगती … Continue reading रात

एक संभावना

यूँ तोह कहते है कि हम अक्सर उसकी चाह रखते है जो हमे मिल नहीं सकता, पर सपने देखने का हक है हमें यूँ तोह हम तुमको नजर भर देख कर भी रह सकते है पर तुम्हारी कशिश का हक़ है हमें क्या तुमने कभी सोचा है कि कितना गहरा है ये मन , क्या … Continue reading एक संभावना