गलतफहमियाँ

कुछ गलतफहमियाँ अच्छी है, कुछ अफ़साने उलझे है , तुम दूर हो ये अच्छा है, पास में, दूर जाने का डर है, तुम उगते सूरज हो, ये अच्छा है हम ढलती शाम सुहाने है , तुम बेफिक्रे हो ये अच्छा है ये जो गलतफहमियां है तुम्हे मेरे बारे में गर नजदीक लाये तोह अच्छी है … Continue reading गलतफहमियाँ

Advertisements

My first corporate Job

So I am here doing my first stint at Myntra. Work is chill, Manager is a cool man, and I manage with my colleagues as well. Each day I learn some aspects of my job life. Kuch bura Kuch acha. Lekin har Raat jab main bed par jati hu, cheekh Kar rone ka man karne … Continue reading My first corporate Job

चंद लम्हे

अच्छा हुआ कि आप इस पेज पर आए, खुशियां ना गिनो तो ऐसे फिसल जाती है जैसे हाथ से रेत,  तो मैंने निश्चय किया कि खुशियां लिख लू़ँ, बांधकर रख लूं। हर दिन हम भले ही कुछ देर के लिए ही सही खुश होते हैं, तो अब मैं वो सब लिखूंगी! चलिए तोह वो लिखते … Continue reading चंद लम्हे

What I learn from others..

Rupam: I have more experiences because I listen. And I listen without judging others. Didi: There is only one life, don't live it pathetically. Ayesha: Cutting someone in between while talking is a great insult.Just a small talk at Shubhadra'room: Reading books have their own pleasure and talking with people around you and laughing over … Continue reading What I learn from others..

Artificial Intelligence

Causality: मतलब कुछ कॉज करे कुछ और। मतलब मैंने आपको चाँटा मारा आपको दर्द हुआ, मैंने चाँटा पहले मारा,दर्द बाद में हुआ। one thing precedes another. लेकिन क्या होता है तब जब आप एग्जाम के लिए पहले पढ़ते है, exams happen after study, not before. but you say I am reading because of an exam, … Continue reading Artificial Intelligence

महाभारत

महाभारत का युद्ध १८ दिन चला था। और उन १८ दिनों में १०० कौरव मारे गए और सिर्फ ५ पांडव जीते क्यूँ क्यूँकि कृष्ण थे उनके साथ। सिर्फ एक लाइन में पूरे ज़िन्दगी डिफाइन हो गयी। ये ज़िन्दगी महाभारत है और कौरव हमारे सेंसेस , हमारी इच्छाएं , लालसाये और काम क्रोध और अहंकार डर … Continue reading महाभारत

ज़िन्दगी का २५वां साल।

ज़िन्दगी का २५वां साल। हाँ भाई मैं २४ साल की हो गई हूँ अब। हर इंसान उम्र में बढ़ता है जन्मदिन मनाता है, पार्टी करता है, मैंने भी की अपने लास्ट बर्थडे में, सोचा बस अब बड़े होने का वक्त आ गया। एकदम मन उमंग में था मनो ज़ोन्दगी के २५वे साल में ना होली … Continue reading ज़िन्दगी का २५वां साल।